June 16, 2024 1:57 pm

फॉलो करें

हेमंत सोरेन जब खुद जमीन लुटेरों से पैसा लेते हैं तो आखिर भ्रष्टाचार कैसे रुकेगा : बाबूलाल मरांडी

*पूरे झारखंड में कानून व्यवस्था चौपट, भ्रष्टाचार चरम पर*

*सरकारी दफ्तरों में बिना पैसा कोई काम नहीं*

*लोकसभा और विधानसभा में 33 प्रतिशत आरक्षण महिलाओं के लिए बड़ी सौगात*

*बीजेपी से ही संभव है देश और प्रदेश में विकास*

*संकल्प यात्रा के तहत गुमला विधानसभा की जनसभा में बाबूलाल मरांडी ने हेमंत सोरेन सरकार पर साधा निशाना*

झारखंड भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सह पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी ने कहा कि झारखंड में भ्रष्टाचार चरम पर है। राज्य सरकार को इसकी कोई चिंता नहीं है। झारखंड के इस भ्रष्टाचार को आखिर कौन समाप्त करेगा ? हेमंत सोरेन जब खुद जमीन लुटेरों से पैसा लेते हैं तो आखिर भ्रष्टाचार कैसे रुकेगा।

श्री मरांडी ने कहा कि हेमंत सोरेन कहते थे कि वे शिबू सोरेन के बेटे हैं डरते नहीं हैं। हेमंत है तो हिम्मत है का नारा उनके लोग लगाते थे। परंतु आज ईडी के डर से क्यों भाग रहे हैं। जब इन्होंने कोई गलत काम नहीं किया इनको भागने की जरूरत क्या है। इनको ईडी का सामना करना चाहिए। आज राज्य के सबसे बड़े महाजन सोरेन परिवार बन गए हैं। सोरेन परिवार गरीबों और आदिवासियों की हितेषी नहीं है।

श्री मरांडी ने कहा कि बीजेपी की वजह से झारखंड अलग राज्य बना। झामुमो और हेमंत सोरेन कहते हैं कि उन्होंने झारखंड अलग आंदोलन की लड़ाई लड़ी। उन्होंने जितना लड़ाई लड़ी उतना नरसिम्हा राव से वसूल कर लिया। जो बचा तो उन्हें जेल भी जाना पड़ा। अटल बिहारी वाजपेई की सरकार ने अलग झारखंड की सौगात दी। बीजेपी के सरकार में ही विकास प्रारंभ हुआ।

श्री मरांडी ने कहा कि 2014 में नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री पद का शपथ लिया। उन्होंने संकल्प लिया था कि उनकी सरकार गांव, गरीबों, किसानों, मजदूरों, मां बहनों को समर्पित रहेगी। प्रधानमंत्री जी सदैव अपने इस संकल्प को लेकर प्रतिबद्ध रहे। पहले महिलाएं शौच के लिए सूर्योदय या सूर्यास्त का इंतजार करती थी। मोदी जी ने इस दर्द को समझा और सबसे पहले उन्होंने महिलाओं के लिए इज्जत घर बनाने का काम किया। फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लाखों गरीबों को प्रधानमंत्री आवास देने का काम किया। इस प्रदेश के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन जी ने कहा था कि उन्हें 1 लाख रुपए और देंगे ताकि गरीब अपना आवास बड़ा बना सके लेकिन 1 लाख रुपए तो छोड़िए एक फूटी कौड़ी भी नहीं दिया। बल्कि देश के प्रधानमंत्री जी आवास के लिए जो पैसे भेजते है उसमें भी हेमंत सोरेन कमीशन खोरी करते हैं।गरीबों तक पैसे ठीक से नहीं पहुंचते हैं। मोदी जी ने गैस का चूल्हा देकर महिलाओं को सशक्त किया। वही उज्जवला योजना के लाभुकों को 400 रुपए की सब्सिडी देने का काम मोदी जी ने किया। मोदी सरकार गरीब महिलाओं की चिंता करती है। पहले गरीबों की पहुंच बैंकों तक नहीं थी । गरीबों का जीरो बैलेंस पर जनधन खाता खुलवाया गया। सभी सब्सिडी को सीधे लाभुकों के खाते में भेजने का काम मोदी सरकार ने किया। कोरोना काल में जनधन खातों में पैसा भेजने का काम हुआ। 80 करोड़ आबादी को 5 किलो अनाज भेजा जा रहा है। हेमंत सोरेन सरकार इस अनाज को गरीबों तक पहुंचा नहीं पा रही है बल्कि उसे बाजारों में बेच रही है और इस पैसे से अपनी तिजोरी भरने में हेमंत सरकार लगी है। इस सरकार को बदलना होगा। यही संकल्प लेकर आप सबको यहां से जाना है।

श्री मरांडी ने कहा कि सरकार का काम होता है कानून व्यवस्था ठीक कराना लेकिन आज झारखंड में क्या हो रहा है किसी से छुपा नही है यहां प्रत्येक दिन चोरी, डकैती, लूट, अपहरण, हत्या यहाँ तक कि बहु बेटियों की इज्जत भी सुरक्षित नही है , आखिर यह स्थिति क्यों पैदा हुई। अपराध चरम पर है।

जब झारखंड में भाजपा की सरकार होती है तो अपराधी ख़ौफ़ खाते हैं झारखंड से भाग खड़े होते हैं लेकिन जब राज्य में हेमंत सोरेन के नेतृत्व में सरकार बनती है तो अपराधी बेख़ौफ़ होकर अपराध करते हैं आखिर पुलिस करती क्या है ?

पुलिस का काम है चोरों को पकड़ना, अपराधियों को पकड़ना, उनको जेल में डालना उनको सजा दिलाना लेकिन हेमंत सोरेन ने पुलिस को वसूली में लगा रखा है। चाहे कोयला की वसूली हो, नदी से बालू की वसूली हो अगर आप नोट देंगे तो आपको छोड़ेंगे नही तो आप कोर्ट से जमानत कराओ। घर बनाने के लिए बालू पर भी लोगों को आफत है। हमलोगों ने सरकार से कहा कि आप ऑक्शन कर दीजिए या झारखंड के अंदर इसे फ्री कर दीजिए और बॉर्डर पर चेकपोस्ट लगा दीजिए। ताकि कोई बंगाल, यूपी, बिहार राज्य में बालू ना ले जा सके। पार्टी सरकार के कानों पर जूं नहीं रेंगी। बॉर्डर पूरा खुला हुआ है। कोयला, बालू की तस्करी बेरोकटोक जारी है। वहीं दूसरी ओर कोई घर के लिए साइकिल से भी बालू ले जाता है तो परेशान किया जाता है।

श्री मरांडी ने कहा कि कुछ दिन पूर्व अखबार में एक रिपोर्ट छपी कि 6 महीनों में 23 कारोबारियों को हत्या की हुई है। इसमें 9 लोगों ने अपनी सुरक्षा को लेकर पुलिस से गुहार लगाई थी। अगर सुरक्षा सरकार उपलब्ध करा दी जाती तो शायद वे बच जाते। ऐसे सारे मामले की जांच सीबीआई से कराकर दोषी पर सजा मिले। हेमंत सोरेन की सरकार नहीं करा पाती है तो जब भी बीजेपी की सरकार आएगी तो हम इसकी जांच कराएंगे और दोषियों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

श्री मरांडी ने कहा कि आज सरकारी दफ्तरों में बिना पैसा कोई काम नहीं होता है। आय,आवासीय, जाति प्रमाण पत्र तो छोड़ दीजिए मृत्यु प्रमाण पत्र बनवाने में भी पैसा लगता है। भ्रष्टाचार हर स्तर पर है। दलाल बिचौलिए घूम रहे हैं, पैसे वसूल रहे हैं। जमीन, बालू, कोयला, लोहा की लूट मची है। लुटेरों, चोरों और भ्रष्ट अफसरों को सुरक्षा में एके 47 धारी सिपाही की सुरक्षा व्यवस्था मुहैया कराई जाती है लेकिन लगातार धमकी पाने वाले कारोबारियों को सुरक्षा देने में सरकार और पुलिस विफल रही है। भ्रष्टाचार मुक्त शासन और अपराध मुक्त झारखंड बनाना है, यही संकल्प लेकर जाना है।

श्री मरांडी ने कहा कि रक्षाबंधन की पूर्व संध्या पर प्रधानमंत्री ने मां-बहनों के लिए रसोई गैस पर 200 रूपए की सब्सिडी दी। वहीं उज्जवला योजना के लाभुकों को पहले से 200 मिलता था , फिर 200 सब्सिडी दी, इस प्रकार 400 रूप्ए की सब्सिडी गरीब मां बहनों को देने का का काम मोदी सरकार ने दिया। भगवान विश्वकर्मा पूजा के दिन, इसी दिन मोदी जी का जन्मदिन भी है उन्होंने देश के परंपरागत कारीगरों को नई तकनीक से जोड़ने के लिए 13000 करोड़ रूपये का प्रावधान किया है।

श्री मरांडी ने कहा कि संसद के विशेष सत्र में दोनों सदन से महिलाओं के लिए 33 प्रतिशत आरक्षण का विधेयक पारित कराकर मोदी सरकार ने महिलाओं को बड़ी सौगात दी है। दुनियां के किसी देश में ऐसा नहीं है लेकिन मोदी सरकार ने ऐसा कर इतिहास रच दिया। लोकसभा और विधानसभा चुनावों में 33 प्रतिशत सीट महिलाओं के लिए आरक्षित होगी। हमारे देश में प्राचीन काल से नारियों की पूजा होती है नरेंद्र मोदी ने उसी परंपरा को आगे बढ़ाया है। हमारी मां बहनों के बारे में किसी अन्य सरकार ने चिंता नहीं की, नरेंद्र मोदी सरकार ने इनकी चिंता की।

श्री मरांडी ने कहा कि जब जब देश में, प्रदेशों में बीजेपी की सरकार बनती है तब विकास का काम होता है और जब कांग्रेस, जेएमएम , राजद की सरकार बनती है तो लूट खसोट होता है। कोयला, बालू, पत्थर की चोरी होती है। झारखंड में 2000 के पहले का दृश्य याद कीजिए। कांग्रेस व उनकी सहयोगी दलों ने कभी गांवों की चिंता नहीं की। जब बीजेपी की सरकार बनी तो गांवों तक सड़कों का जाल बिछाया गया। नदी नालों में पुल पुलिया बना। ये बीजेपी की देन है। बिजली की स्थिति को ही याद कीजिए। नरेंद्र मोदी की सरकार ने संकल्प के तहत सभी गांव में बिजली पहुंचाने का काम किया।

इस सरकार को विकास की कोई चिंता नहीं है। हेमंत सरकार नियुक्ति वर्ष का ढोल पीटती रही है परंतु चार वर्षों से नियुक्ति वर्ष का कहीं अता पता नहीं है। सरकार की गलत और असंवैधानिक नियमावली के पेंच में राज्य के युवा पिस रहे हैं। स्कूलों में शिक्षक नहीं हैं, अस्पतालों में डॉक्टर, नर्स नहीं हैं। कौन पढ़ाएगा, कौन इलाज कराएगा इसकी सरकार को चिंता नहीं है। प्रधानमंत्री गरीबों की चिंता कर आयुष्मान योजना के तहत 5 लाख का लाभ गरीबों को देते हैं पर झारखंड में गरीबों का कार्ड तक नहीं बन पाया है।

श्री मरांडी ने कहा कि बीजेपी के हाथों ही झारखंड का विकास संभव है। किसानों, गरीबों, महिलाओं की चिंता करने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ हम सबों को भी खड़ा होना होगा। यही आपसे आग्रह करने आया हूं। हम सबको मिलकर इस सरकार को उखाड़ फेंकना है। यही संकल्प लेकर आप सभी जाएं।

इसके पूर्व प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ने बाबा टांगीनाथ धाम मंदिर में पूजा अर्चना कर प्रदेशवासियों के सुख, शांति एवं समृद्धि की कामना की।

इस दौरान बालमुकुंद सहाय, समीर उरांव, सुदर्शन भगत, दिनेश उरांव, शिवशंकर उरांव, कमलेश उरांव, अरुण उरांव सहित पार्टी के कई वरीय नेता और कार्यकर्ता उपस्थित थे। कार्यक्रम में हजारों की तादाद में लोग उपस्थित थे।

Share this post:

Leave a Comment

खबरें और भी हैं...

लाइव क्रिकट स्कोर

कोरोना अपडेट

Weather Data Source: Wetter Indien 7 tage

राशिफल