June 23, 2024 3:42 am

फॉलो करें

हाइड्रोजन इंजन निर्माण परियोजना देगी राज्य के विकास को गति : मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन

★ एमओयू कार्यक्रम झारखंड के इतिहास का महत्वपूर्ण दिन

★ झारखंड को अग्रणी राज्यों की श्रेणी में लाकर खड़ा करना लक्ष्य

★ हमारी सरकार क्लाइमेट चेंज को लेकर कर रही सकारात्मक कार्य

श्रमबिंदु/रांची

मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन ने कहा कि हाइड्रोजन इंजन निर्माण परियोजना हेतु टाटा मोटर्स एवं टाटा कमिंस के संयुक्त उपक्रम तथा झारखंड सरकार के बीच एमओयू होना निश्चित रूप से झारखंड के इतिहास में एक महत्वपूर्ण दिन है। ऐसे तो देश की आजादी से लेकर अब तक झारखंड में उद्योग के क्षेत्र में कई कड़ियां जुड़ी हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि ईश्वर ने इस राज्य को विभिन्न प्रकार की खनिज संपदाओं से आच्छादित किया है, यही कारण है कि झारखंड में कई छोटे-बड़े उद्योग के साथ-साथ बड़े-बड़े तकनीकी उद्योग भी स्थापित हुए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि आज से दो दिन पहले देशभर में चंद्रयान मिशन को लेकर काफी चर्चाएं हो रही थी, अंतोगत्वा भारत ने चंद्रयान मिशन को सफलतापूर्वक पूरा किया। हमारे वैज्ञानिकों ने यह फिर साबित कर दिखाया कि भारत किसी से कम नहीं है। इस पूरे चंद्रयान अभियान में झारखंड के बोकारो जिला निवासी एक आदिवासी युवा श्री शिवशंकर बेसरा का भी सराहनीय योगदान रहा है। श्री शिवशंकर बेसरा इसरो की टीम में वैज्ञानिक के रूप में शामिल हैं। झारखंड के नौजवानों में हुनर की कोई कमी नहीं है, बशर्ते यह आवश्यक है कि हम नीति निर्धारण करने वाले लोग तथा यहां कार्यरत औद्योगिक संस्थाएं इस बात को समझें कि हमें इस राज्य के लिए क्या करना है? यहां के युवाओं को किस दिशा में आगे बढ़ाना है। उक्त बातें मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन ने आज झारखंड मंत्रालय के सभागार में आयोजित TCPL Green Energy Solution Pvt. Ltd (Tata motors limited तथा TATA cummins limited का संयुक्त उपक्रम) के साथ उद्योग विभाग, झारखंड सरकार के बीच हाइड्रोजन इंजन निर्माण से संबंधित नई परियोजना हेतु MoU हस्ताक्षर कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहीं।

झारखंड को अग्रणी राज्यों की श्रेणी में लाकर खड़ा करना लक्ष्य

मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन ने कहा कि वैसे तो झारखंड कहने के लिए देश के पिछड़े राज्यों में शामिल है, परंतु हमारा राज्य पिछड़े राज्यों की लाइन में क्यों खड़ा है मैं इसकी मुकम्मल हल नहीं ढूंढ पाया हूं, लेकिन हल ढूंढने के लिए निरंतर प्रयासरत हूं। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार झारखंड के युवा पीढ़ी की सोच के अनुरूप, यहां की जन भावनाओं के अनुरूप विभिन्न पहलुओं को ध्यान में रखकर एक बेहतर कार्य योजना बनाते हुए राज्य को आगे बढ़ने का काम कर रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि आज हमसभी लोग इस सभागार में जिस कार्य के लिए एकत्रित हुए हैं यह सिर्फ झारखंड ही नहीं बल्कि पूरे देश में चर्चा का विषय रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि आज राज्य सरकार झारखंड की धरती पर हाइड्रोजन इंजन निर्माण के लिए टाटा मोटर्स एवं टाटा कमिंस के संयुक्त उपक्रम के साथ समझौता हस्ताक्षर कर रही है। मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन ने कहा कि हाइड्रोजन इंजन परियोजना के शुरुआती दौर में हाइड्रोजन इंजन का इस्तेमाल सिर्फ हैवी व्हीकल में किया जाएगा परंतु धीरे-धीरे इसके दायरे बढ़ेंगे तथा छोटे वाहनों में भी हाइड्रोजन इंजन इस्तेमाल करने की परिकल्पना को पूरा किया जा सकेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमें पूरा विश्वास है कि ऐसे ही प्रयासों से झारखंड पिछड़े राज्यों की श्रेणी से निकलकर देश के अग्रणी राज्यों की श्रेणी में शामिल होगा।

प्रकृति के साथ समन्वय स्थापित कर विकास के पथ पर आगे बढ़ने की जरूरत

मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन ने कहा कि झारखंड प्रदेश का 30% हिस्सा जंगलों से घिरा हुआ है। छोटे-छोटे झार-वनों को मिला दें तो यह बढ़कर 50 प्रतिशत हो जाता है। वर्तमान समय में देश और दुनिया के लिए जलवायु परिवर्तन तेजी से चुनौती बनकर उभर रहा है। क्लाइमेट चेंज को लेकर राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय पटल पर बड़ी-बड़ी गोष्ठियां, सेमिनार आयोजित कर चर्चाएं हो रही हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि जलवायु परिवर्तन को लेकर हमारी सरकार एक बेहतर कार्य योजना बनाते हुए जन सहभागिता के साथ कई क्षेत्रों में सकारात्मक कार्य कर रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली जैसे शहर की जलवायु के विषय में हम लोग अक्सर सुनते आ रहे हैं। प्रकृति के साथ चुनौती मानव जीवन के लिए भारी पड़ता हुआ दिख रहा है। वर्तमान समय में जलवायु परिवर्तन का घातक असर दिख रहा है, इसे गंभीरता से लेने की आवश्यकता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि कहीं बेमौसम बरसात तो कहीं सुखाड़, कहीं बाढ़, विचित्र स्थिति बनी पड़ी है। प्रकृति के साथ ज्यादा छेड़-छाड़ करने का परिणाम भी हम सभी लोग देख रहे हैं। प्रकृति के साथ समन्वय स्थापित कर विकास के पथ पर आगे बढ़ने की जरूरत है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में हाइड्रोजन इंजन निर्माण परियोजना जलवायु परिवर्तन में सुधार के लिए मिल का पत्थर साबित होगा।

इस अवसर पर उद्योग विभाग, झारखंड सरकार के सचिव श्री जितेंद्र कुमार सिंह और भारत में कमिंस ग्रुप के मुख्य वित्तीय अधिकारी श्री अजय पाटिल ने मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन, मंत्री श्री सत्यानंद भोक्ता, टाटा मोटर्स के कार्यकारी निदेशक श्री गिरीश वाघ तथा कमिंस इंडिया में इंजन व्यवसाय के उपाध्यक्ष श्री नितिन जिराफे की उपस्थिति में समझौता ज्ञापन (MoU) पर हस्ताक्षर किए।

इस अवसर पर श्रम नियोजन एवं कौशल विकास विभाग के मंत्री श्री सत्यानंद भोक्ता, राज्य के मुख्य सचिव श्री सुखदेव सिंह, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्रीमती वंदना दादेल, मुख्यमंत्री के सचिव श्री विनय कुमार चौबे, उद्योग विभाग के सचिव श्री जितेंद्र कुमार सिंह, कार्यकारी निदेशक टाटा मोटर्स लि० श्री गिरीश वाघ, कमिंस ग्रुप के मुख्य वित्तीय अधिकारी श्री अजय पाटिल सहित राज्य सरकार के अन्य वरीय पदाधिकारी एवं टाटा समूह के प्रतिनिधि बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

Share this post:

Leave a Comment

खबरें और भी हैं...

लाइव क्रिकट स्कोर

कोरोना अपडेट

Weather Data Source: Wetter Indien 7 tage

राशिफल